kaal sarp dosh
GET HELP NOW

मंगल दोष निवारण (भातपूजन), सम्पूर्ण कालसर्प दोष निवारण, नवग्रह शांति, पितृदोष शांति पूजन, वास्तु दोष शांति, द्विविवाह योग शांति, नक्षत्र/योग शांति, रोग निवारण शांति, समस्त विध्न शांति, विवाह संबंधी विघ्न शांति

सभी प्रकार के पूजन, अनुष्ठान एवं दोष निवारण

   काल सर्प दोष पूजा उज्जैन
kaal sarp dosh

Our Services

ujjain mahakaleshwar

Kaal Sarp Dosh Puja

सूर्य, चंद्र और गुरु के साथ राहू के होने को Kaal Sarp Dosh बनता है। राहू का अधिदेवता 'काल' है तथा केतु का अधिदेवता 'सर्प' है। इन दोनों ग्रहों के बीच कुंडली में एक तरफ सभी ग्रह हों तो Kaal Sarp Dosh कहते हैं।

ujjain mahakaleshwar

Navgrah Shanti Puja

अक्सर लोगों को कहते सुना होगा कि ‘समय से पहले और भाग्य से ज्यादा किसी को कुछ नहीं मिलता’। ज्योतिषशास्त्र भी मानता है कि ग्रहों की दशा, ग्रहों की चाल का प्रभाव जातक पर पड़ता है।

kaal sarp dosh

Mangal Dosh Puja

मंगल भात पूजा कुंडली में विद्धमान मंगल ग्रह की उग्रता को कम करने के लिए की जाती है, यह पूजा उज्जैन के मंगलनाथ मंदिर में नित्य होती है, जिसका पुण्य लाभ समस्त भक्तजन प्राप्त करते है।

kaal sarp dosh

Pitru Dosh Puja

जीवन और मृत्यु एक दूसरे के साथ साथ चलते है, मनुष्य के जन्म के साथ ही उसकी मृत्यु का समय स्थान, परिस्थित सब नियत कर दिया जाता है, फिर भी कई बार सांसारिक मोह में फंसे हुए व्यक्ति की मृत्यु...

kaal sarp dosh

Rudra Abhishek Puja

भक्तो के लिए भगवान शिव के अनंत नाम है उन्ही नामों में से एक प्रसिद्ध नाम है 'रूद्र'। और भगवान शिव का रूद्र रूप का अभिषेक ही रुद्राभिषेक कहलाता है, इस पूजन में शिवलिंग को स्नान कराकर पूजा की जाती है

maha mrityunjaya jaap

Maha Mrityunjaya Jaap

महामृत्युंजय मंत्र वेदों में सबसे प्राचीन वेद ऋग्वेद का एक श्लोक है जो की भगवान शिव के मृत्युंजय स्वरुप को समर्पित है, यह मन्त्र तीन स्वरूपों में है, (1) लघु मृत्युंजय मंत्र (2) महा मृत्युंजय मंत्र...

Gallery



Recent Puja

Testimonial

ujjain temple

Ramesh Namdev

में उज्जैन में पूजा करवाने आया था। पंडित जी ने पहले ही सब कुछ समझा दिया था की हमे सिर्फ उज्जैन तक आने की जरुरत हे। बाकि सब व्यवस्था वह कर के रखेंगे। पंडित जी ने रेलवे स्टेशन से हमारे लिए गाड़ी की व्यवस्था कर के रखी थी और होटल भी बुकिंग करवा दिया था। शिप्रा नदी मैं नहा कर हम पूजन के स्थान पर चले गए । वहा पर पंडित जी ने पूजन की सारी व्यवस्था पहले से कर कर राखी थी। हमने कालसर्प दोष पूजा करवाई फिर हम महाकाल दर्शन के लिए चले गए थे। पहले हमे थोड़ा डर था की पता नहीं फ़ोन पे जैसी बात हुई पंडित जी वैसे होंगे या नहीं पर में आपको बताना चाहूंगा पंडित जी का व्यवहार बहोत ही अच्छा था और हमे उनसे पूजन करवाके बहोत अच्छा लगा।

धन्यवाद,जय श्री महाकाल.

Send Us a Message